Skip to main content

19 नवम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया गया 

19 नवम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया गया 


लखनऊ , कल  19 नवंबर अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस को पति परिवार कल्याण समिति ने पुरुष सम्मान उत्सव के रूप में मनाया| इस दिन साप्ताहिक मीटिंग स्थल लक्ष्मण पार्क में केक काटकर उत्सव का शुभारंभ किया और उसके उपरांत गीत नाटक आदि मनोरंजन कार्यक्रम के द्वारा पुरुषों के कार्यों को सम्मान दिया और जनमानस में इसके प्रचार-प्रसार के लिए विभिन्न स्थानों - लक्ष्मण पार्क, जी.पी.ओ., विधान सभा के सामने, फन मॉल के सामने व शीरोज़ गोमतीनगर पर जाकर रात 9 बजे समाप्त किया जहाँ वीरांगनाओं/मर्दानियों  के साथ भी पुरुष दिवस मनाया गया| इस यात्रा के दौरान, स्वयं मेहनत कर अपने परिवार का भरण पोषण करने वाले समाज को दिशा देने वाले वाह देश को समृद्ध बनाने वाले पुरुषों को सम्मानित भी किया गया| आज के इस यात्रा की फोटो संलग्न हैं|


पुरुष किसी भी देश का समाज का व परिवार का महत्व अंग होता है वह अपने कर्तव्य का निर्वहन बिना किसी प्रचार प्रसार के मौन रूप से करता रहता है उसके योगदान को सम्मान मिलना ही चाहिए और अंतर्राष्ट्रीय पूर्व दिवस से बेहतर कोई और दिन हो ही नहीं सकता|


प्रस्तावना
19 नवम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया जाता है | यह लगातार 1992 से मनाया जा रहा है | सबसे पहले इसे 7 फ़रवरी को मनाया गया था । फिर 1999 में इसे दोबारा त्रिनिदाद और टुबैगो में शुरू किया गया |  तब से प्रत्येक वर्ष 19 नवम्बर को अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाता है |


पुरुष का दुख
समाज की लगातार बढती उम्मीदों में खरा उतरना पुरुषों के लिए बहुत मुश्किल हो गया है  | ऐसे में कड़ी महनत एवं घर-परिवार एवं समाज के प्रति कर्त्तव्य निष्ठां को निरंतर पूरा करने के बावजूद भी पुरुषों को तिरस्कृत एवं घृणात्मक दृष्टि से देखा जाना, पुरुषों के मानसिक एवं एहम को बुरी तरह चोट पहुंचाता है | जिसकी वजह से कुछ पुरुष जो की तिरस्कार एवं जिल्लत की जिंदगी जीने को मजबूर रहता है | चाहे वो किसी भी पद पर हो या किसी भी पेशे हो ।


सरकारी आंकड़े
आंकड़े चीख चीख कर बोल रहे हैं की पुरुषों को भी बचाओ क्योंकि महिलाओं से दो गुना से भी ज्यादा पुरुष आत्महत्या कर रहे हैं | किन्तु पुरुषों की आवाज़ बढ़ते कानूनी आतंकवाद में जैसे दब कर रह गयी है | पिछले वर्ष सन 2015 में भी तकरीबन 65000 पुरुषों ने आत्महत्या की, आंकडे बताते हैं कि अधिकतर मामलों में पति पहले इस धरती से विदा होता है और पत्नी बाद में । वजह कहा जाता है कि उस पर मानसिक तनाव अधिक रहता है घर का भी और बाहर का भी । ज़्यादातर पुरुष अपना दुख किसी से साझा नहीं करते और अंदर अंदर ही मरते रहते है । जिसकी वजह से वो मानसिक और शारीरिक बीमारियो से घिर जाते है ।


सबसे बड़ा दुख
देश में महिलाओं, बच्चों, जानवरों, पेड़-पौधों आदि तक के संरक्षण के लिए नियम है कानून है प्रावधान है मंत्रालय है । किन्तु पुरुषों के संरक्षण के लिए न कोई नियम है न कोई कानून है न कोई प्रावधान है न कोई मंत्रालय है जिसपर खड़े होकर वो अपने उपर हो रहे अत्याचारों, भेदभाव के खिलाफ आवाज़ उठा सके |


क्यों मनाया जाता है
दुनियां भर में परिवार, समाज, देश, विश्व के लिए पुरुषों द्वारा किये जा रहे कार्य और उनके योगदान की सराहना एवं आभार व्यक्त करने हेतु अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाता है । पुरुष अपने परिवार, दोस्त, समुदाय, देश आदि के लिए दिनभर कुछ न कुछ करते रहते है । कभी बेटा, कभी भाई, कभी पति, कभी पिता, कभी दोस्त आदि बनकर प्रत्येक दिन बलिदान करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस समाज में पुरुषों द्वारा किये जा रहे त्याग व बलिदान की सराहना का दिवस है। अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस का उद्देश्य लिंग संबंधों में सुधार, लैंगिक समानता को बढ़ावा देने, सकारात्मक पुरुष मॉडल की भूमिका पर प्रकाश डालना है। पुरुषों के स्वास्थ्य पर ध्यान देना इसमें शामिल है। इस दिवस का उद्देश्य पुरुषों के खिलाफ हो रहे भेदभाव को समाज के सामने लाना है । जब घर के बाहर महिला को उसके काम से पहचान व् सम्मान मिल रहा है तो घर के अन्दर पुरुष को भी उसके काम के लिए पहचान व सम्मान मिलना चाहिए | पुरुष बाहर से कितना भी कठोर हो पर उसके अन्दर भी एक दिल होता है, जो दुखता भी है ओर तड़पता भी है । घर के बहुत सारे कामों में पुरुष का योगदान होता है | जो भी हो काम के लिए पहचान व सम्मान हर् पुरुष को मिलना चाहिए । आज महिला ससक्तिकरण के नाम पर काफी कानून है लेकिन पुरुष के उत्थान के लिए कोई कानून नहीं है । महिला को पूरा अधिकार है इन कानूनों का इस्तेमाल करने का जबकि पुरुष के पास तो इनसे बचने के लिए भी कानून नहीं है ।


कैसे मनाया जाता है
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस पर कुछ पुरुषों के संगठनों कई स्थानों पर सेमिनार, सम्मेलनों आदि का आयोजन करते है । शांतिपूर्ण प्रदर्शन व जुलुस का आयोजन भी होता है। कुछ शहरों में कर रैलि का आयोजन भी होता है । कुछ शहरों में पुरुष आधारित फिल्मों आदि का भी आयोजन होता है ।


एक कड़वा सच
अब पूरे विश्व भर में पुरुषों द्वारा किये गए कामों को मुख्य रूप से घर में , शादी को बनाये रखने में , बच्चों की परवरिश में , समाज में निभाई जाने वाली भूमिका में, सम्मान की मांग उठी है | पुरुष और स्त्री परिवार की गाडी के दो पहिये हैं | दोनों का सही संतुलन और वर्गीकरण एक खुशहाल परिवार के लिए बेहद जरूरी होता है | क्योंकि परिवार समाज की इकाई है इसलिए परिवार का संतुलन समाज का संतुलन है | इसलिए स्त्री या पुरुष दोनों के काम का सम्मान किया जाना बहुत जरूरी हैं | काम का सम्मान उसे महत्वपूर्ण होने का अहसास दिलाता है और उसे बेहतर काम करने के लिए प्रेरित भी करता है | पुरुष घर के अन्दर अपने कामों के प्रति सम्मान व् स्नेह की मांग कर रहा है | कहीं न कहीं ये बदलते समाज की सच्चाई है | पहले महिलाएं घर के काम देखती थी और और पुरुष बाहर के, खास तोर से धन कमाना | पुरुष को घर के बाहर सम्मान मिलता था इसलिए स्त्री को घर में बच्चो व् परिवार द्वारा ज्यादा सम्मान स्वीकार कर लेता था | समय बदला, परिस्तिथियाँ बदली | आज घरों में जहाँ स्त्री और पुरुष दोनों नौकरी कर रहे हैं | दोनों को  बाहर सम्मान मिल रहा है | घर आने के बाद जहाँ स्त्रियाँ रसोई का मोर्चा संभालती हैं वही पुरुष बिल भरने , घर की टूट फूट की मरम्मत कराने , सब्जी तरकारी लाने का काम करते हैं | पढे लिखे पुरुषों का एक बड़ा वर्ग इन सब से आगे निकल कर बच्चों के डायपर बदलने, रसोई में थोडा बहुत पत्नी की मदद करने और बच्चों को कहानी सुना कर सुलाने की नयी भूमिका में नज़र आ रहा है | पर कहीं न कहीं उसे लग रहा है की बढ़ते महिला समर्थन या पुरुष विरोध के चलते उसे उसे घर के अन्दर या समाज में उसके कामों के लिए सम्मान नहीं मिल रहा है |  ये भी एक बड़ा चिंता का विषय है की एक महिला हाउस वाइफ बन कर सम्मान से जी सकती है पर एक पुरुष हाउस हसबेंड बन कर सम्मान से नहीं जी सकता । उसे कोई सम्मान से नहीं देखता , न समाज , न परिवार , न पत्नी और न बड़े होने के बाद बच्चे |


जरूरत
मर्द को दर्द नहीं होता बहुत कहते ओर सुनते है । पर फिर भी 2015 में 65000 पुरुषो ने आत्महत्या की | पूरे दिन जानवर की तरह काम करने वाला पुरुष कब अपना ही बोझ उठाने लायक नहीं रह पाता, ये उसे भी पता नहीं होता | ऐसे में जरुरत है की पुरुषों पर उत्पीडन को रोकने की और पुरुषों को भी समाज में पहचान देने की | जरुरत है, ”पुरुष आयोग” की |


Comments

Popular posts from this blog

आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है!

-आध्यात्मिक लेख  आत्मा अजर अमर है! मृत्यु के बाद का जीवन आनन्द एवं हर्षदायी होता है! (1) मृत्यु के बाद शरीर मिट्टी में तथा आत्मा ईश्वरीय लोक में चली जाती है :विश्व के सभी महान धर्म हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, जैन, पारसी, सिख, बहाई हमें बताते हैं कि आत्मा और शरीर में एक अत्यन्त विशेष सम्बन्ध होता है इन दोनों के मिलने से ही मानव की संरचना होती है। आत्मा और शरीर का यह सम्बन्ध केवल एक नाशवान जीवन की अवधि तक ही सीमित रहता है। जब यह समाप्त हो जाता है तो दोनों अपने-अपने उद्गम स्थान को वापस चले जाते हैं, शरीर मिट्टी में मिल जाता है और आत्मा ईश्वर के आध्यात्मिक लोक में। आत्मा आध्यात्मिक लोक से निकली हुई, ईश्वर की छवि से सृजित होकर दिव्य गुणों और स्वर्गिक विशेषताओं को धारण करने की क्षमता लिए हुए शरीर से अलग होने के बाद शाश्वत रूप से प्रगति की ओर बढ़ती रहती है। (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है : (2) सृजनहार से पुनर्मिलन दुःख या डर का नहीं वरन् आनन्द के क्षण है :हम आत्मा को एक पक्षी के रूप में तथा मानव शरीर को एक पिजड़े के समान मान सकते है। इस संसार में रहते हुए

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन

लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का किया ऐलान जानिए किन मांगों को लेकर चल रहा है प्रदर्शन लखनऊ 2 जनवरी 2024 लखनऊ में स्मारक समिति कर्मचारियों का जोरदार प्रदर्शन स्मारक कर्मचारियों ने किया कार्य बहिष्कार और कर्मचारियों ने विधानसभा घेराव का भी है किया ऐलान इनकी मांगे इस प्रकार है पुनरीक्षित वेतनमान-5200 से 20200 ग्रेड पे- 1800 2- स्थायीकरण व पदोन्नति (ए.सी.पी. का लाभ), सा वेतन चिकित्सा अवकाश, मृत आश्रित परिवार को सेवा का लाभ।, सी.पी. एफ, खाता खोलना।,  दीपावली बोनस ।

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन

भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन लखनऊ, जुलाई 2023, अयोध्या के श्री धर्महरि चित्रगुप्त मंदिर में भगवान चित्रगुप्त व्रत कथा पुस्तक का भव्य विमोचन  किया गया। बलदाऊजी द्वारा संकलित तथा सावी पब्लिकेशन लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का विमोचन संत शिरोमणी श्री रमेश भाई शुक्ल द्वारा किया गया जिसमे आदरणीय वेद के शोधक श्री जगदानंद झा  जी भी उपस्थित रहै उन्होने चित्रगुप्त भगवान् पर व्यापक चर्चा की।  इस  अवसर पर कई संस्था प्रमुखो ने श्री बलदाऊ जी श्रीवास्तव को शाल पहना कर सम्मानित किया जिसमे जेo बीo चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट,  के अध्यक्ष श्री दीपक कुमार श्रीवास्तव, महामंत्री अमित श्रीवास्तव कोषाध्यक्ष अनूप श्रीवास्तव ,कयस्थ संध अन्तर्राष्ट्रीय के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खरे, अ.भा.का.म के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश कुमार जी एवं चित्रांश महासभा के कार्वाहक अध्यक्ष श्री संजीव वर्मा जी के अतिरिक्त अयोध्या नगर के कई सभासद भी सम्मान मे उपस्थित रहे।  कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के अध्यक्ष दीपक श्रीवास्तव जी ने की एवं समापन महिला अध्यक्ष श्री मती प्रमिला श्रीवास्तव द्वारा किया गया। कार्यक्रम