Skip to main content

कास्टिंग का सोशल प्लेटफॉर्म्स पर फॉलोअर्स की संख्या पर निर्भर करना निराशाजनक- कशिश दुग्गल



कास्टिंग का सोशल प्लेटफॉर्म्स पर फॉलोअर्स की संख्या पर निर्भर करना निराशाजनक- कशिश दुग्गल

दिल्ली में जन्मी और पली बढ़ी कशिश दुग्गल ने सौ से ज्यादा टीवी सीरीज समेत विश्वास, विद्रोह और आखिरी दस्तक जैसी फिल्मों में काम करके भरपूर वाहवाही बटोरी है। वो डीडी क्वीन के रूप में जानी जाती हैं। उन्होंने दूरदर्शन पर लाइव शो भी होस्ट किए हैं। आज़ाद चैनल के शो ‘हरी मिर्च लाल मिर्च एक तीखी एक करारी में’ वो पुष्पी और ज्वाला की भूमिकाएं निभा रहीं हैं। दोनों किरदार बहुत अलग हैं, लेकिन ऐसा लगता है कि वे उनका एक अभिन्न अंग बन गए हैं। वो उम्मीद करती हैं कि इन किरदारों को वो प्यार मिले, जिसके वो हकदार हैं। पुष्पी एक पारंपरिक, साधारण और  विनम्र महिला हैं जिनकी शादी एक ऐसे परिवार में हुई है, जिसमें पुरुषों का बोलबाला है। वो एक प्यारी मां और घर में बड़ी हैं, जो अपने परिवार को बड़े अच्छे से संभालती हैं और सभी की जरूरतों को पूरा करती हैं। वो दोहरी जिंदगी जीती हैं - वो एक ‘दबंग’ पुलिस अधिकारी हैं जिनसे अपराधी घबराते हैं लेकिन उनका परिवार इससे अंजान है। इस प्रयास में उनके पति उनका साथ देते हैं क्योंकि वो अपने परिवार और करियर को लगातार संतुलित करने का प्रयास करती है। ज्वाला के रूप में, कशिश एक बिंदास महिला, एक सफल पुलिसवाली, दमदार, सही रास्ते पर चलने वाली, डराने वाली, बहादुर, न्यायप्रिय और ईमानदार है। वो अपने परिवार में परंपराओं और पितृसत्तात्मक मूल्यों को कायम रखने वाली एक सास है लेकिन ज्वाला के रूप में वो महिलाओं के व्यक्तित्व और स्वतंत्रता के मूल्य को भी समझती है। यहां कशिश अपने नए शो और कई अन्य बातों पर चर्चा कर रही हैं-

- हरी मिर्च लाल मिर्च किस बारे में है?

हरी मिर्च लाल मिर्च एक तीखी एक करारी, एक ड्रामेडी (नाटक और कॉमेडी) है, और आज़ाद पर अपनी शैली में पहला है। ये एक तड़के के साथ सास बहू की कहानी है। 

- आप इस शो में कैसे आईं?

मैंने फरवरी में कोविड लॉकडाउन के दौरान इसके लिए ऑडिशन दिया था। मैंने खुद से ही रिहर्सल की और अप्रैल के अंत में शो साइन किया था। सेल्फ टेस्ट से लेकर शो की शूटिंग तक का मेरा सफर अपने आप में एक कहानी है।

- आपके अभिनय का सफर कैसे शुरू हुआ?

यह सब तब शुरू हुआ, जब मैं 11 साल की थी। मुझे लगता है कि भाग्य ने ही मेरे लिए ये चुन रखा था। मुझसे हमेशा कहा जाता है कि जब मैं डांस करती हूं तो मैं बहुत एक्सप्रेसिव होती हूं और इसने मुझे सुर्खियों में ला दिया।

- एक ऐसा किरदार जिसे निभाना आपको पसंद था?

‘किसी की नजर ना लगे’ में वंशिका बनर्जी और कम्मो का डबल रोल। यह दूरदर्शन पर एक डेली सोप था, जिसे राजा मुखर्जी द्वारा निर्मित और निर्देशित किया गया था।

- आपने टीवी इंडस्ट्री में क्या बदलाव देखे हैं?

टेक्नोलॉजी हर दिन बदल रही है और इसलिए हमारी इंडस्ट्री भी बदल रही है। हर स्थिति और हर बदलाव के अपने फायदे और नुकसान हैं। ओटीटी प्लेटफॉर्म्स और आज़ाद जैसे नए चैनलों पर नए अवसरों के साथ सभी के लिए काम करने की ज्यादा गुंजाइश है। यह ज्यादा से ज्यादा प्रतिभाओं को मौका देता है। दूसरी ओर, कास्टिंग अब सोशल प्लेटफॉर्म्स पर किसी के फॉलोअर्स की संख्या पर निर्भर करती है, जो सबसे ज्यादा निराशाजनक है। इस आधार पर सबसे योग्य और अनुभवी लोगों को छोड़ दिया जाता है।

Comments

Popular posts from this blog

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक

नाकामियों को छुपाने को लेकर पत्रकारों पर कराया जा रहा हमला-पूर्व मंत्री कमाल यूसुफ मलिक डुमरियागंज , विगत दिनों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में L2 कोविड अस्पताल के उद्घाटन के समय पत्रकार के साथ मारपीट की घटना काफी निंदनीय है जिसकी जांच कराते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए उक्त उदगार व्यक्त करते हुए डुमरियागंज के पूर्व विधायक/पूर्व मंत्री कमाल युसूफ मलिक ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है लेकिन जिस तरीके से प्रशासन के आला अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे और लोगों ने उनके साथ मारपीट किया यह अशोभनीय घटना है तथा लोकतंत्र पर कड़ा प्रहार है। सच्चाई दिखाने को लेकर पत्रकार के साथ मारपीट किया गया। उन्होंने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि उच्च स्तरीय कमेटी बनाकर जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ताकि कोई भी भविष्य में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारों के साथ ऐसी बदसलूकी ना कर सके उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इस संबंध में अधिकारियों को पत्र भेजते हुए राज्यपाल को इसके जांच के लिए मांग पत्र दिया जाएगा। Report: Malik Wamik

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन

लखनऊ बादशाहनगर स्टेशन  पर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर समारोह का आयोजन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर  पर मण्डल परिचालन प्रबन्धक कोचिंग डॉ शिल्पी कनौजिया दुवारा बादशाहनगर स्टेशन  पर महिला दिवस पर समारोह का आयोजन किया गया । कार्यक्रम की शुरुवात मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक उपस्थित अधिकारियों व स्टेशन अधीक्षक अभिषेक मिश्र के साथ मिल कर दीपप्रज्वलित किया गया था । महिला दिवस के उपलक्ष्य में बादशाहनगर रेलवे स्टेशन "कोविड 19 की दुनिया में महिलाओ का समान नेतृत्व को प्राप्त करना " विषय   रंगोलो प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिंग ,गायन ,फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन महिलाओ के लिए किया गया साथ ही डाउन एएसआई लोको पायलट स्मिता कुमारी,सहायक लोको पायलट आंशिक चौधरी गार्ड जाग्रति त्रिपाठी स्टेशन मास्टर श्रीमती दीपमाला मिश्र श्रीमती रानी दुवारा हरी झंडी को दिखा कर मण्डल प्रबन्धक पूर्वोत्तर  के समक्ष रेल का संचालन सभी महिलाओ दुवारा किया गया जो महिलाओ के बढ़ते नेतृत को दर्शाता है ।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि  मण्डल रेल प्रबंधक डॉ मोनिका अग्निहोत्री रही ।साथ में अन्य प्रमुख अधिकारी  वरिष्ठ मण्डल पर

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप

किसानों के संघर्ष व दर्द की कहनी है फिल्म 'गोदाम' : सुजीत प्रताप - 17 दिसम्बर को अखिल भारतीय स्तर पर होगी प्रदर्शित  लखनऊ, 10 दिसम्बर 2021। किसानों के बहुत से मुद्दों को फिल्म निर्माता समय—समय पर उठाते रहे हैं। ऐसे ही ग़ाज़ीपुर के सुजीत प्रताप सिंह ने किसानों पर आधारित फिल्म गोदाम का निर्माण किया है, जो अखिल भारतीय स्तर पर आगामी 17 दिसम्बर को प्रदर्शित होगी। इस बात की जानकारी फिल्म के निर्माता सुजीत प्रताप सिंह ने आज राजधानी मे पत्रकारों को दी। उन्होनें बताया की सार्थक सिनेमा के बैनर तले बनी फिल्म गोदाम मे मास्टर ऋत्विक प्रताप सिंह, अखिल गौरव सिंह, विपिन पाणिग्रही, माया जायसवाल, अक्सर इलाहाबादी, सनी उपाध्याय, शायना खान, अरुण शुक्ला, हुमा कमाल, सुजीत प्रताप सहित अन्य अभिनेता फिल्म में नजर आएंगे। उन्होनें बताया की फिल्म का निर्देशन अखिल गौरव सिंह और अक्सर इलाहाबादी ने किया है। हीरोइन का किरदार एस बबली ने निभाया है। फिल्म गोदाम मे मुख्य भूमिका निभा रहे सुजीत प्रताप सिंह ने बताया कि वह स्वयं किसानों के परिवार से ताल्लुक रखते हैं, इसलिए किसानों का दर्द और संघर्ष जानते हैं। उन्होंने इस